कछुओं के सरंक्षण के लिए अरुणिमा सिंह को मिला नैटवेस्‍ट ग्रुप अर्थ हीरोज अवार्ड्स

657
Arunima Singh receives Natwest Group Earth Heroes Awards for Conservation of Turtles
समृद्ध जैव विविधता के संरक्षण और संवर्द्धन के द्वारा जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं।

लखनऊ- बिजनेस डेस्क। नैटवेस्‍ट ग्रुप इंडिया (पूर्व नाम आरबीएस इंडिया), जो नैटवेस्‍ट ग्रुप का वैश्विक क्षमता केंद्र है, ने आज 11वें नैटवेस्‍ट ग्रुप अर्थ हीरोज अवार्ड्स के विजेताओं के नामों की घोषणा की। इस सूची में अरुणिमा सिंह ने कछुओं के संरक्षण हेतु अपने द्वारा किए गए प्रयासों के लिए ”सेव द स्पीशीज” वर्ग के अंतर्गत पुरस्‍कार जीता। वर्ष 2021 के अवार्ड्स की थीम जैवविविधता- लोचदार प्रकृति वह नींव है जिस पर सभी जलवायवीय अल्‍पीकरण एवं अनुकूलन प्रयास करने होंगे पर एक वर्चुअल समारोह के जरिए आठ विजेताओं को सम्‍मानित किया गया।

समारोह की मुख्‍य अतिथि इवोन हाइगुएरो, महासचिव, कन्‍वेंशन ऑन द इंटरनेशनल ट्रेड इन इंडेंजर्ड स्‍पेसीज ऑफ वाइल्‍ड फॉना एंड फ्लोरा (सीआईटीईएस), यूएन थीं। ये वार्षिक पुरस्कार एक राष्ट्रीय पहल हैं जो पूरे भारत में व्यक्तियों और संस्थानों के प्रयासों को मान्यता देता है जो समाज और प्रकृति के बीच बेहतर संबंध के लिए देश की समृद्ध जैव विविधता के संरक्षण और संवर्द्धन के द्वारा जलवायु परिवर्तन को कम करने के लिए अथक प्रयास कर रहे हैं।

कछुओं के संरक्षण को करती है काम

अरुणिमा सिंह टर्टल सर्वाइवल एलायंस इंडिया प्रोग्राम का हिस्सा हैं, जो प्रोजेक्ट कोऑर्डिनेटर के रूप में काम कर रही हैं। वह भारत में कछुओं के संरक्षण और उनकी स्थिति के बारे में जागरूकता फैलाने में मदद कर रही हैं। वह स्थानीय कार्यों को प्रेरित करने के लिए विभिन्न लक्षित समूहों के विज्ञान और क्षमता निर्माण के विस्तार के अलावा उत्तर भारत के मीठे पानी के कछुओं, मगरमच्छों और गंगा नदी के डॉल्फ़िन्‍स की सुरक्षा के लिए कई जमीनी स्तर पर संरक्षण के प्रयासों का नेतृत्व और सहायता कर रही हैं। इससे पूर्व, सुश्री सिंह 2018 में पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री द्वारा आयोजित प्रकृति और वन्यजीव संरक्षण के लिए ‘प्रकृति रत्न’ से सम्मानित हो चुकी हैं।

अपने अथक समर्पण और ग्रामीण और शहरी दोनों समुदायों के साथ निरंतर जुड़ाव के माध्यम से, वह लोगों और जलीय वन्यजीवों के बीच एक ‘जुड़ाव’ स्थापित करने में सफल रही है। सुश्री सिंह ने कई संरक्षण परियोजनाओं, मुख्य रूप से कछुओं और मगरमच्छों पर क्रियान्वित करके लुप्तप्राय जलीय वन्यजीवों को बचाने के लिए संगठन के संरक्षण जनादेश और उद्देश्यों को प्राप्त करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here