वाराणसी में गंगा की लहरों पर अब डीजल की जगह सीएनजी नाव कराएंगी पर्यटकों को सैर

309
In Varanasi, instead of diesel, CNG boats will take tourists on the waves in the Ganges.
इससे गंगा में सैर करने वालों को किराया कम खर्च करना पड़ेगा, इसके साथ ही गंगा में प्रदूषण भी कम होगा।

वाराणसी। पीएम मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में गंगा की लहरों में अब सीएनजी से नावें चलेंगी। गंगा में डीजल इंजन से चलने वाली नावों को अब सीएनजी इंजन में बदला जा रहा है। उम्मीद है कि देव दीपावली के भव्य आयोजन में दुनियाभर से आने वाले सैलानियों के बीच सीएनजी नाव गंगा में फर्राटा भरेंगी। आपकों बता दें कि पीएम मोदी वाराणसी के कायाकल्प पर पूरा ध्यान दे रहे है।

चाहे गंगा की सफाई हो या बाबा विश्वनाथ के मंदिर का पुनरनिर्माण। वाराणसी की सड़कों को चौड़ा करके आवागमन को सुविधाजनक बनाया जाना है। अब इसी क्रम में गंगा में प्रदूषण को रोकने के लिए डीजल से चलने वाले इंजन की जगह सीएनजी इंजन को लाया जा रहा है। इससे गंगा में सैर करने वालों को किराया कम खर्च करना पड़ेगा, इसके साथ ही गंगा में प्रदूषण भी कम होगा।

गेल इंडिया के सहयोग से अब तक 90 से ज्यादा नावों को सीएनजी में बदला गया है। करीब 100 नावों के इंजन में बदलाव के लिए चिह्नित किया गया है। 12 किलोग्राम के टैंक वाले इंजन से करीब 100 किलोमीटर का सफर आसानी से तय किया जा सकेगा। जबकि डीजल इंजन वाले नाव पांच लीटर डीजल में अस्सी से राजघाट का चार ही चक्कर लगा पाते हैं। गेल इंडिया खिड़किया घाट पर जेटी बनाकर फ्लोटिंग सीएनजी स्टेशन तैयार कर रहा है। इसके शुरू होने के बाद नावों के इंजन में बदलाव में तेजी जाएगी। इससे गंगा में विहार करने वालों को किराया भी कम देना पड़ेगा।

दो हजार नावों पर खर्च होंगे 29 करोड़ 

परियोजना का शुभारंभ केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने किया था। गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के लिए छोटी-बड़ी लगभग 2000 नाव को सीएनजी में बदलने का लक्ष्य है। ट्रायल रन होने के बाद गेल व नगर निगम के अधिकारियों ने तैयारियों को परखना शुरू कर दिया है। गेल अधिकारियों के अनुसार, गेल और नगर निगम के बीच नाव को सीएनजी में बदलने के लिए सीएसआर फंड के माध्यम से 29.7 करोड़ रुपये उपलब्ध कराने को समझौता हुआ है। यह धन गेल, नगर निगम को उपलब्ध कराएगा। छोटी नाव पर करीब 60 से 70 हजार की लागत आएगी। बड़ी नाव और बजरे पर लगभग दो लाख का खर्च आएगा।मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल ने बताया कि नावों को सीएनजी में तब्दील करने की योजना पर काम चल रहा है। सीएनजी स्टेशन शुरू होने के बाद इस परियोजना में और गति आएगी। गेल इंडिया और नगर निगम के कामों का पर्यवेक्षण कराया जा रहा है।

इसे भी पढ़े…

चार माह में ही मेहरीन ने भव्य को किया टाटा, सगाई तोड़ आगे बढ़ीं, जानिए वजह

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here