Wednesday, October 5, 2022
Homeउत्तर प्रदेशयूपी चुनाव 2022: बसपा ने घोषित किया पहला प्रत्याशी, माफिया मुख्तार का...

यूपी चुनाव 2022: बसपा ने घोषित किया पहला प्रत्याशी, माफिया मुख्तार का टिकट राजभर को दिया

लखनऊ। मिशन 2022 के लिए बसपा प्रमुख मायावती ने शुक्रवार को अपना पहला प्रत्याशी घोषित किया। खास बात है कि मायावती ने पार्टी के विधायक और मुख्तार अंसारी का टिकट का काटकर बसपा प्रदेश अध्यक्ष को दिया है। यानि अब भीम राजभर माफिया की सीट से चुनाव लड़ेंगे। मायावती ने शुक्रवार को ट्वीट करके इसकी जानकारी दी।मायावती ने ​ट्वीट करके बताया कि इस बार बसपा से किसी माफिया या दागदार व्यक्ति को टिकट नहीं दिया जाएगा।

आपकों बता दें कि मुख्तार अंसारी परिवार का पूर्वांचल के कई जिलों में वर्चस्व है। योगी सरकार ने माफिया के विरूद्ध आपरेशन क्लीन चला रही है। योगी सरकार ने कई माफिया के वर्चस्व को खत्म करने का काम किया है। इसलिए इस विधान सभा चुनाव में माफिया का सफाया भी एक मुद्दा बनने वाला है। ऐसे में मायावती ने एक कदम आगे बढ़ाते हुए माफिया को इस बार पार्टी से दूर रखने का एलान किया है। आपकों बता दें कि इससे पहले मुख्तार अंसारी के बड़े भाई सिबगतुल्लाह अंसारी के साथ उनके बेटे मन्नू अंसारी ने सपा का दामन थाम लिया है।

बसपा ने पेश की नजीर

बसपा ने दबंग प्रत्याशियों को विधानसभा चुनाव में टिकट देने वाली पार्टियों के सामने बड़ी नजीर पेश की है। बसपा मुखिया मायावती ने मऊ से पार्टी के विधायक माफिया मुख्तार अंसारी का टिकट काट दिया है। मायावती ने यह भी ऐलान किया कि किसी भी माफिया को टिकट नहीं दिया जाएगा। मुख्तार अंसारी इन दिनों बांदा जेल में बंद है। भीम राजभर पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष हैं। बसपा सुप्रीमो मायावती ने मौजूदा विधायक मुख्तार अंसारी को फिर टिकट न देने का फैसला करते हुए कहा है कि अबकी बार पार्टी का प्रयास होगा कि किसी बाहुबली और माफिया को चुनाव न लड़ाया जाए।

मायावती ने ट्वीट कर दी जानकारी

बसपा चीफ मायावती ने शुक्रवार को एक-एक करके तीन ट्वीट किया। मायावती ने कहा कि अगामी यूपी विधानसभा आमचुनाव में हमारा प्रयास होगा कि किसी भी बाहुबली व माफिया आदि को पार्टी से चुनाव न लड़ाया जाए। आजमगढ़ मंडल की मऊ विधानसभा सीट से अब विधायक मुख्तार अंसारी नहीं भीम राजभर चुनाव लड़ेंगे। पार्टी नेतृत्व ने बसपा उत्तर प्रदेश के अध्यक्ष भीम राजभर के नाम को मऊ से फाइनल किया है।

मायावती ने कहा कि जनता की कसौटी व उनकी उम्मीदों पर खरा उतरने के प्रयासों के तहत ही लिए गए इस निर्णय के फलस्वरूप पार्टी प्रभारियों से अपील है कि वह पार्टी उम्मीदवारों का चयन करते समय इस बात का खास ध्यान रखें ताकि सरकार बनने पर ऐसे तत्वों के विरूद्ध सख्त कार्रवाई करने में कोई भी दिक्कत न हो। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री मायावती ने कहा कि बीएसपी का संकल्प ‘कानून द्वारा कानून का राज’ के साथ ही उत्तर प्रदेश की तस्वीर को भी अब बदल देने का है। जिससे प्रदेश व देश ही नहीं बल्कि बच्चा-बच्चा कहे कि सरकार हो तो बहनजी की ‘सर्वजन हिताय व सर्वजन सुखाय’ जैसी तथा बीएसपी जो कहती है वह करके भी दिखाती है यही पार्टी की सही पहचान भी है।

इसे भी पढ़ें…

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments