शहीदे आज़म भगतसिंह के विचारों पर चल कर ही कम्पनी राज को हराया जा सकता है- कॉम मनोज पाण्डेय

166
Company Raj can be defeated only by following the thoughts of Shaheed Azam Bhagat Singh - Com Manoj Pandey
भगत सिंह जयंती पर आयोजित कार्यक्रम

प्रयागराज। आज नार्थ सेंट्रल रेलवे वर्कर्स यूनियन सम्बद्ध आई आर ई एफ़ व ऐक्टू ने इंडियन रेलवे इम्प्लाइज फेडरेशन द्वारा देश भर में 19 सितंबर से 28 सितंबर तक चलाए जा रहे *कम्पनी राज भगाओ, रेल बचाओ, कर्मचारी बचाओ महाअभियान* के आखिरी दिन शहीदे आज़म भगतसिंह जी की जयंती को मनाया गया।

नार्थ सेंट्रल रेलवे वर्कर्स यूनियन के केंद्रीय महामंत्री कॉम मनोज पाण्डेय ने कहा कि केंद्र सरकार के राष्ट्रीय मौद्रिकरण नीति, 43600 पर लगी सीलिंग हटवाने, पुरानी पेंशन योजना बहाल कराने, यार्ड सेड में 15% पदों के सरेंडर करने, सिविल स्टोर, कार्मिक, यांत्रिक, लेखा एवं चिकित्साइत्यादि विभागों के हैल्परों के वर्कशॉप में खाली पड़े पदों को भरने के मांग के समर्थन में लगातार 19 सितंबर से हम अभियान चला रहे है।आज हम शहीदे आज़म भगतसिंह के जन्मदिन पर यह संकल्प दुहराते है कि भगत सिंह के विचारों पर चल कर ही वर्तमान कंपनी राज को हराया जा सकता है, पहले भी हमने रेलवे कर्मचारियों के बल पर रेल मंत्रालय द्वारा लाए गए 100 डे एक्सन प्लान को नही लागू होने दिया है, आगे भी कोर, आर आर बी, आर आर सी को खत्म करने के सरकार के निर्णय के खिलाफ संघर्ष जारी रखेंगे।

ऐक्टू राष्ट्रीय सचिव डॉ कमल उसरी ने कहा कि  रेलवे सहित सार्वजनिक क्षेत्र का निजीकरण पुनः देश को गुलाम बनाना है, सरकार मौद्रिकरण के नाम 4 वर्षों में 6 लाख करोड़ रुपए इकट्ठा करने की जो योजना बनाई है उसमें 26,000 किलोमीटर सड़क बेचकर 1,60,200 करोड़ रुपये, रेलवे के 400 रेलवे स्टेशन, 90 यात्री ट्रेन,1400 किलोमीटर रेलवे ट्रैक,741 किलोमीटर कोंकण रेलवे ट्रैक, 4 पहाड़ी रेलवे स्टेशन, 265 रेलवे सामानों का सेड,15 रेलवे स्टेडियम, सैकड़ों रेलवे कॉलोनी को बेचकर 1,52,496 करोड़ रुपए, ऊर्जा में 28,608 विधुत वितरण लाइन को बेचकर 45,200 करोड़ रुपए, टेलीकॉम के 2,86 लाख किलोमीटर इंटरनेट फाइबर, और बीएसएनएल व एमटीएनएल के 14,917 टावर को बेचकर 35,100 करोड़ रुपए, विद्युत उत्पादन के 6 मेगावाट जिसमें विधुत उत्पादन 3,5 लाख,2,5 गीगा गीगा वायु क्षमता को 39,832 रुपये करोड़, नेचुरल गैस पाइप लाइन से 24,462 रुपए करोड़, 25 हवाई अड्डा 20,782 रुपये करोड़,9 बंदरगाह 31प्रोजेक्ट 12,828 करोड़ रुपए, दो राष्ट्रीय स्टेडियम, 2 क्षेत्रीय स्टेडियम खेल 15000 करोड़ रुपये इकट्ठा करने की योजना है, जिसके खिलाफ इंडियन रेलवे इम्प्लाइज फेडरेशन / ऐक्टू लगातार संघर्ष करता रहेगा।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से नार्थ सेंट्रल रेलवे वर्कर्स यूनियन कोषाध्यक्ष कॉम संजय तिवारी, नार्थ सेंट्रल रेलवे वर्कर्स यूनियन केंद्रीय सहायक महामंत्री कॉम सैय्यद इरफात अली, आई टी ईचार्च राकेश शर्मा, आफ़ताब अहमद, अनिरूद्ध सिंह, शमशेर आलम, अमित कनौजिया, सुनील आर्य, शिवेन्द्र प्रताप सिंह, अजित कुमार, पीयूष मिश्रा, शिवांकर ,सुनील कुमार मिश्रा, राम किशोरा, मनमोहन, फ़ैज़ खान, आर के यादव, विमल इत्यादि शामिल रहे थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here