9 साल छोटे युवक पर आया दिल तो पति को गला दबाकर मारा, ऐसे खुला भेद

639
9year old main love and killing his husband murder
पुलिस ने सोमवार को बसंती और मनीष के दोस्त रवींद्र को भी गिरफ्तार कर लिया।

ग्वालियर।मध्यप्रदेश के ग्वालियर शहर से एक हैरान करने वाला सामने आया है। पुलिस ने जो खुलासा किया उसके अनुसार एक महिला को अपने से नौ साल छोटे युवक से मोहब्बत हो गई, इसके बाद उसे पति का व्यवहार नहीं भाने लगा। इसके बाद महिला ने रात में सोते समय पति की गला दबाकर हत्या कर दी और रात भर शव के साथ सोती रही,ताकि बच्चों को कोई संदेह न हो।

पुलिस पूछताछ में पति हत्यारोपित महिला ने बताया कि उसे पति की हत्या करने का कोई पछतावा नहीं है। उसने मेरा जीना हराम कर दिया था। बात-बात पर पीटता था फिर मुझे मनीष से प्यार हो गया। वो मेरा ख्याल रखता था।इसलिए उसे मार डाला।

बॉयफ्रेंड ने शव ठिकाने लगाया

आरोपित महिला ने बताया कि उसने 4 सितंबर को पति की गला दबाकर हत्या कर दी पूरी रात शव के साथ बिस्तर पर पड़ी रही, ताकि बच्चों को लगे कि उनके पिता सो रहे हैं। दूसरे दिन बॉयफ्रेंड और उसके दोस्त के साथ मिलकर शव को नहर में फेंक दिया। 52 दिन बाद जांच पड़ताल के बाद पुसिल ने इस मामले से पर्दाफाश किया। आरोपी महिला के पास से 10 सिम कार्ड मिले हैं। पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

दो दिन बाद मिला था शव

आपकों बता दें कि ग्वालियर जिले की चीनोर पुलिस को पुरानी नहर में 6 सितंबर की सुबह युवक का शव मिला था। मृतक के दोनों हाथों पर टैटू बने थे। प्रारंभिक तौर पर शिनाख्त नहीं हो पाई थी। शव का पोस्टमार्टम कराया गया, तो अलग कहानी सामने आई। रिपोर्ट में गला दबाने का मौत होना सामने आया। इसके बाद उसकी पहचान बेलगढ़ा थाना इलाके देवरी कलां गांव के रहने वाले परीक्षित रावत (30) के रूप में हुई। इसके बाद पुलिस के सामने आया कि उसकी पत्नी बसंती रावत ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसके बाद पड़ताल की, तो पुलिस को कई सुराग मिले। सामने आया कि परीक्षित की हत्या उसकी पत्नी बसंती, महिला के प्रेमी मनीष रावत व उसके दोस्त रवींद्र ने की थी।

ऐसे हुआ शक

पुलिस को इस हत्या की गुत्थी सुलझाने में पूरे 52 दिन लग गए। जांच के लिए पुलिस जब मृतक के घर पहुंची तो देखा कि पत्नी सभी से हंसकर बात कर रही है। पुलिस को शक हुआ कि पति की मौत का किसी पत्नी को गम नहीं है। तेरहवीं के बाद बसंती को पूछताछ के लिए थाने बुलाया। बसंती के पास दो मोबाइल थे। पुलिस ने उसे चेक किया तो उसमें चार सिम थे और मोबाइल के कवर में छह सिम और मिले। पुलिस ने कॉल डिटेल निकाली तो एक नंबर पर कई बार बात हुई थी। यह नंबर मनीष रावत का निकला। पुलिस ने उसे रविवार को हिरासत में लिया। कड़ाई से पूछताछ की तो उसने हत्या की पूरी कहानी बताई। इसके बाद पुलिस ने सोमवार को बसंती और मनीष के दोस्त रवींद्र को भी गिरफ्तार कर लिया।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here