Saturday, December 10, 2022
Homeदेश-दुनियावर्क फ्रॉम होम से 41 फीसदी लोगों में बढ़ी रीढ़ की ये...

वर्क फ्रॉम होम से 41 फीसदी लोगों में बढ़ी रीढ़ की ये समस्या, विशेषज्ञों ने दी ये सलाह

नई दिल्ली। कोरोनाकाल में बदली व्यवस्थाओं के बीच वर्क फ्राम होम का चलन बढ़ गया। जिसको लेकर चौकाने वाले खुलासे सामने आ रहे हैं। दरअसल स्पाइन यानी रीढ़ को होने वाला किसी भी तरह का नुकसान इंसान को शारीरिक, मानसिक और भावनात्मक रूप से प्रभावित करता है। ऐसा होने पर मांसपेशियों में कमजोरी, शरीर के कई हिस्सों में दर्द के साथ अवसाद की समस्या होती है। गौरतलब है कि कोरोना के चलते संस्थानों में वर्क फ्रॉम होम का कल्चर बढ़ा है।

इससे भी स्पाइन को खासा नुकसान पहुंच रहा है। मिली जानकारी के अनुसार पीएमसी लैब की एक रिसर्च बताती है कि कोविड-19 के दौरान वर्क फ्रॉम होम करने वाले 41.2 फीसदी लोगों ने पीठ दर्द और 23.5 फीसदी लोगों ने गर्दन दर्द की शिकायत की। बताया गया कि सिटिंग के हर घंटे के बाद यदि 6 मिनट की वॉक की जाए तो रीढ़ को नुकसान से बचाया जा सकता है। इसके अतिरिक्त रोजाना चाइल्ड पोज, कैट और काऊ पोज जैसे योगासन करें। बताया गया कि दर्द बढ़ने पर डॉक्टर की सलाह जरूर लेना चाहिए।

बढ़ रही ये समस्याएं

नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ के शोध के मुताबिक स्पाइन में गड़बड़ी का असर व्यक्ति पर शारीरिक एवं भावनात्मक दोनों रूप से पड़ता है।
पीठ में दर्द की शिकायत: लगातार झुककर बैठने से स्पाइन की डिस्क कम्पैक्ट होने लगती है। इसके साथ ही शारीरिक गतिविधियां कम होने से स्पाइन के आसपास के लिगामेंट टाइट होने लगते हैं। इससे स्पाइन की फ्लैक्सेबिलिटी घटती है। इसके परिणामस्वरूप लंबी सिटिंग से पीठ दर्द होने लगता है।

कमजोर मांसपेशियां: स्पाइन के जरूरत से अधिक फैलाव के कारण पेट और उसके आसपास की मांसपेशियां कमजोर होने लगती हैं। ऐसा लंबी सिटिंग के कारण होता है।

गर्दन और कंधे में दर्द: स्पाइन को सिर से जोड़ने वाली सर्वाइकल वर्टेब्रा में तनाव पड़ने के कारण गर्दन में दर्द होने लगता है। साथ ही कंधों और पीठ की मांसपेशियों को भी नुकसान होता है।

ब्रेन फॉग की शिकायत: मूवमेंट न होने के कारण मस्तिष्क में पहुंचने वाले रक्त और ऑक्सीजन की मात्रा घटती है। सोचने की क्षमता प्रभावित होती है।

व्यवहार पर असर: अधिक देर तक बैठे रहने से न्यूरोप्लास्टिसिटी प्रभावित होती है। जिसके कारण न्यूरॉन्स की एक्टिविटी भी कमजोर होती है। इससे व्यक्ति भावनात्मक रूप से कमजोर होता है और डिप्रेशन बढ़ता जाता है।

ये हैं बड़े कारण

लंबी सिटिंग से रक्त प्रवाह में बाधा:स्पाइन यूनिवर्स के मुताबिक ज्यादा देर एक जैसी सिटिंग से ग्लूट्स में ब्लड सर्कुलेशन बाधित होता है। ग्लूट्स स्पाइन को सपोर्ट करने वाली प्रमुख मांसपेशी है।

गलत पॉश्चर से कंधे, पीठ, गर्दन में दर्द: बैठे-बैठे झुकने, मुड़ने से रीढ़ के लिगामेंट और डिस्क पर तनाव बढ़ता है। इसके कारण कंधों, गर्दन और पीठ में दर्द होने लगता है। इसे पुअर पॉश्चर सिंड्रोम कहते हैं।

मोबाइल एडिक्शन से डिस्क संकुचन:जब आप लंबे समय तक स्क्रीन पर काम करते हैं और देखने के लिए सिर को बार-बार झुकाते हैं तो रीढ़ पर खिंचाव पड़ता है, जो स्पाइन की डिस्क को संकुचित करता है।

मजबूत रीढ़ के लिए अपनाएं ये उपाय

स्पाइन को मजबूत बनाने के लिए पेट और पीठ की मांसपेशियों की मजबूती बहुत जरूरी है। विशेषज्ञों के मुताबिक ये मांसपेशियां ही स्पाइन को संतुलित और शक्तिशाली बनाती हैं। ये जितनी मजबूत होंगी स्पाइन पर पड़ने वाले वजन का दबाव उतना ही कम होगा।

एक्सरसाइज (ब्रिज): विशेषज्ञ इसके लिए एक्सरसाइज जमीन पर लेट जाएं। पंजों पर जोर लगाते हुए हिप्स को उठाकर शरीर को एक सीध में कर लें। 10 से 15 सेकंड तक रुकें। 15 मिनट के तीन सेट करें। प्रत्येक सेट के बीच में एक मिनट का गैप रखें।

फायदे: हिप्स की मांसपेशियां मजबूत होती हैं। लोअर बैक को सपोर्ट करती हैं। रीढ़ मजबूत बनती है।

योग (चाइल्ड पोज): पंजों पर बैठ जाएं। हथेलियों को फर्श से सटा लें। सांस लेते हुए 1 से 2 मिनट तक इसी पोजीशन में रहें। सांस लेते हुए पूर्व अवस्था में आ जाएं। इसी तरह के काऊ और कैट पोज भी उपयोगी हैं। वहीं टीवी देखने के दौरान बीच-बीच में वॉक करना चाहिए। इससे मांसपेशियों की जकड़न घटती है। लचीलापन बढ़ता है।

फायदे: शरीर और रीढ़ में रक्त संचार बेहतर होता है, जांघ, कूल्हे और टखने मजबूत होते हैं। साथ ही रीढ़ की मांसपेशियां मजबूत होती हैं।

इसे भी पढ़ें

 

 

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments