धौलपुर में हादसा: आगरा के एक ही परिवार के पांच युवकों की प्रतिमा विसर्जन करते समय डूबने से मौत

187
Accident in Dholpur: Five youths of the same family of Agra died due to drowning while immersing the statue
युवकों के साथ आए गांव वालों ने चारों को डूबता देख शोर मचाया। गश्त कर रहे पुलिस दल ने गोताखोरों को बुलाया। पहले राजेश और सत्यपाल के शव बाहर निकाले गए।

आगरा। पड़ोसी जिले राजस्थान के धौलुर जिले में शुक्रवार देर शाम बड़ा हादसा हो गया। यहां आगरा से आए एक परिवार के पांच युवकों की देवी प्रतिमा विसर्जन के दौरान डूबने से मौत हो गई। एक साथ पांच युवकों की मौत की खबर मिलते ही घर में कोहरा मच गया। परिजन भागते हुए घटनास्थल पर पहुंचे। युवकों की डूबने की सूचना मिलते ही स्थानीय पुलिस ने गोताखोरों की मदद से रेस्क्यू अभियान शुरू किया। तीन घटे की मशक्कत के बाद पांच शवों को निकाला गया। पुलिस ने पीएम कराने के बाद शवों को अंतिम संस्कार के लिए घर वालों को सोंप दिया। मरने वालों में एक युवक की एक माह बाद शादी होने वाली थी, जैसे ही उसके मौत की खबर उसकी ससुराल पहुंची तो वहां भी मातम छा गया।

शादी से पहले घर में मातम

घर वालों से मिली जानकारी के अनुसार मृतकों में जान गवाने वाले राजेश की एक माह बाद शादी होने थी, घर में शादी की तैयारियां चल रही थी,राजेश की मौत से दो घरों में विरानी छा गई। हादसे की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंचे एसपी केसर सिंह शेखावत ने बताया कि हादसे में राजेश पुत्र कालीचरण (22), रणवीर पुत्र कालीचरण (24), सत्यपाल पुत्र परीक्षित, संजय पुत्र घनश्याम और कृष्णा (22) पुत्र राजवीर की मौत हो गई। मृतकों में राजेश और रणवीर दोनों सगे भाई थे।

इसलिए हुआ हादसा

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार दशहरे पर चंबल और पार्वती नदी पर मां दुर्गा की मूर्ति विसर्जित करने के लिए लोग आ रहे थे। मौके पर पुलिस जाब्ता तैनात किया गया था। इस दौरान बॉर्डर पर जगनेर थाना क्षेत्र के भुवनपुरा गांव के लोग पार्वती नदी पर आए। गांव के पांच युवक माता की मूर्ति लेकर पानी में उतर गए। मूर्ति का वजन ज्यादा होने के कारण चारों का बैंलेस बिगड़ गया। पैर फिसला और डूब गए।पानी ज्यादा होने की वजह से किसी को संभलने का मौका तक नहीं मिला।

युवकों के साथ आए गांव वालों ने चारों को डूबता देख शोर मचाया। गश्त कर रहे पुलिस दल ने गोताखोरों को बुलाया। पहले राजेश और सत्यपाल के शव बाहर निकाले गए। इसके बाद रणवीर, घनश्याम और कृष्णा की तलाश में सर्च ऑपरेशन चलाया गया। करीब 3 घंटे की मशक्कत के बाद दोनों के शव भी बाहर निकाले गए। मृतकों की पहचान उनके साथ आए गांव वालों ने की। धौलपुर पुलिस ने आगरा पुलिस को सूचना दी है।

शव परिजनों को सौंपा

पुलिस ने पीएम के बाद शव परिजनों को सौंप दिया। मृतक राजेश की एक महीने बाद शादी थी। पिता कालीचरण ने बताया कि घर में शादी की तैयारियां चल रही थी। राजेश और रणवीर से पहले एक बेटे की बीमारी से मौत हो गई थी। पांच में से तीन बेटों की मौत से परिवार टूट गया है। मृतकों के भाई हेमराज ने बताया कि मृतक सत्य प्रकाश पुत्र परीक्षित चचेरा भाई था। तीनों जगनेर में सिलाई की दुकान पर काम करते थे। संजय और कृष्णा भी परिवार में ही थे।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here