एएमआई सर्वेक्षण में खुलासा: अब लोग घरेलू उपकरणों की खरीदारी में ले रहे रूचि

288
Revealed in AMI survey: Now people are taking interest in buying home appliances
उपभोक्ता खपत मेट्रिक्स में सकारात्मक बदलाव को दर्शाता है।

मुंबई। प्रमुख उपभोक्ता डेटा इंटेलिजेंस कंपनी एक्सिस माई इंडिया ने सितंबर के महीने के लिए इंडिया कंज्यूमर सेंटीमेंट इंडेक्स (सीएसआई) के अपने निष्कर्ष जारी किए हैं। ये निष्कर्ष विभिन्न मुद्दों पर उपभोक्ता धारणा का मासिक विश्लेषण प्रस्तुत करते हैं। उपभोक्ता सेंटीमेंट में प्रतिशत वृद्धि से प्रतिशत कमी को घटाने के बाद गणना किया गया नेट सीएसआई स्कोर 7 पर दर्ज किया गया था, जो पिछले तीन महीनों में निरंतर गति से बढ़ रहा है। इस तरह यह उपभोक्ता खपत मेट्रिक्स में सकारात्मक बदलाव को दर्शाता है।उपभोक्ता सेंटीमेंट विश्लेषण 5 प्रासंगिक उप-सूचकांकों में बंटा हुआ है – कुल मिलाकर घरेलू खर्च,आवश्यक और गैर-आवश्यक वस्तुओं पर खर्च, स्वास्थ्य सेवा पर खर्च, मीडिया खपत की आदतें और मोबिलिटी संबंधी रुझान।

इस महीने, एक्सिस माई इंडिया के कंज्यूमर सेंटीमेंट इंडेक्स ने त्योहारों के खर्च, ऑनलाइन खरीद और यूपीआई/वॉलेट भुगतान और आईपीएल में नागरिकों की रुचि के संदर्भ में गहराई से जानकारी दी। इस तरह कोविड से पहले और बाद की धारणा को समझने के लिए व्यवहार में बदलाव को दर्ज किया गया।

यह सर्वेक्षण 10,639 लोगों के नमूने के आकार के साथ कंप्यूटर एडेड टेलीफोनिक साक्षात्कार के माध्यम से किया गया। इनमें 59 प्रतिशत लोग ग्रामीण भारत से थे जबकि 41 प्रतिशत लोग 28 राज्यों और 8 केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करने वाले शहरी नागरिक थे।

सितंबर की रिपोर्ट पर टिप्पणी करते हुए एक्सिस माई इंडिया के सीएमडी प्रदीप गुप्ता ने कहा, ‘जैसे-जैसे महामारी का खतरा कम होता जा रहा है, हम देख रहे हैं कि आम जनजीवन सामान्य स्थिति की ओर लौट रहा है। लेकिन जहां तक खर्च करने का सवाल है, लोग बेहद सतर्क हैं और वे बहुत सोच-समझकर कदम उठा रहे हैं। सर्वेक्षण में इस बात पर प्रकाश डाला गया है क्योंकि 46 प्रतिशत उत्तरदाता परिधान जैसी छोटी चीजों पर खर्च करना पसंद करेंगे, जबकि केवल 11 प्रतिशत उत्तरदाता ऐसे हैं जो दोपहिया या कार खरीदने पर विचार करेंगे।

घरेलू जरूरी चीजों पर खर्च पिछले दो महीनों से कमोबेश इतना ही है। हालांकि, पिछले महीने की तुलना में स्वास्थ्य सेवा पर खर्च में कमी आई है, जिससे पता चलता है कि लोग महामारी से कम प्रभावित हो रहे हैं। एक तरफ 27 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने यूपीआई लेनदेन में वृद्धि की सूचना दी, लगभग 49 प्रतिशत अभी भी यूपीआई/वॉलेट का उपयोग नहीं करते हैं। इस तरह डिजिटल भुगतान के क्षेत्र में एक जबरदस्त अवसर नजर आ रहा है। आईपीएल ने अपनी अद्वितीय पहुंच साबित कर दी है और जो एक खास ट्रेंड के रूप में उभर रहा है, वह यह है कि दर्शक इसे डिजिटल पर तेजी से देख रहे हैं, खासकर टियर 3/ग्रामीण बाजारों में जहां अभी भी बिजली कटौती है और जहां ज्यादातर घरों में एक ही टीवी है।’’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here