लखनऊ में पीएम मोदी ने 75 हजार लोगों को ‘अपने आवास’ की चाभी सौंपी

160
PM Modi handed over the keys of 'his residence' to 75 thousand people in Lucknow
उद्घाटन सत्र के बाद सेमिनार और वेबीनार के माध्यम से नगरीय विकास से संबंधित प्रौद्योगिकी पर चर्चा की जाएगी।

लखनऊ। इस समय पूरे देश् में आजादी के 75वें वर्ष का जश्न मनाया जा रहा है। इस अवसर पर जगह—जगह कार्यक्रम किए जा रहे है। इसी क्रम में आज से तीन दिन राजधानी लखनऊ में अमृत महोत्सव मनाया जाएगा। इसमें शामिल होने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लखनऊ पहुंचे हैं। पीएम ने न्यू अर्बन इंडिया कॉन्क्लेव का शुभारंभ किया। इसके बाद 75 हजार लाभार्थियों को वर्चुअली आवास की चाभी सौंपने के बाद पांच लाभार्थियों से संवाद कर रहे है।

इससे पहले सीएम योगी ने कहा, आजादी के बाद आवास का सपना था। यह सपना 2014 के बाद साकार होता दिख रहा है। यूपी में 42 लाख परिवारों को आवास मिला है। शहरीकरण यूपी के लिए बहुत जरूरी है और शहरी विकास तेजी से बढ़ रहा है। केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा, योगी के मुख्यमंत्री बनने से पहले जून 2015 के बाद 20 महीनों के अंदर यूपी में केवल 20 हजार आवास बन पाए थे। योगी के मुख्यमंत्री बनने के बाद 20 महीनों के भीतर यह आंकड़ा 20 लाख में बदल में बदल गया है।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए कहा कि अर्बन फ्यूचर का रोड मैप यह कॉन्क्लेव है। पीएम ने न्यू इंडिया का सपना देखा है। वे दिन रात इस सपने को साकार करने में जुटे हुए हैं। प्रधानमंत्री जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे तब उन्होंने अर्बन प्लानिंग पर फोकस किया था। भूकंप से तबाह, प्लेग से पीड़ित सूरत शहर की सूरत बदलने में उनकी भूमिका बहुत महत्वपूर्ण रही जो आज भी सराहनीय है।

उद्घाटन सत्र के बाद सेमिनार और वेबीनार के माध्यम से नगरीय विकास से संबंधित प्रौद्योगिकी पर चर्चा की जाएगी। 04 अलग-अलग सत्रों में मध्य-आय वाले घरों के लिए उपयुक्त नवीन निर्माण सामग्री और निर्माण प्रौद्योगिकीय का उपयोग, संसाधन, अवसर, बाधाएं और चुनौतियां, स्वदेशी/नवीन तकनीक का उपयोग करते हुए प्रचार, प्रसार, प्रदर्शन और निर्माण के लिए रणनीति तथा आवास सुधार, शहरी परिदृश्य के परिवर्तन को सक्षम करने विषय पर विचार-विमर्श होगा। एक अन्य विशेष सत्र में उत्तर प्रदेश में PM आवास योजना (शहरी) के क्रियान्वयन में अपनाई गई रणनीतियां, क्षेत्र में विशिष्ट केस स्टडीज, प्रमुख उपलब्धियां, सीख एवं आगे की राह विषय पर चर्चा की जाएगी।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here