Sunday, September 25, 2022
Homeउत्तर प्रदेशबदलाव को स्‍वीकारती माताएं, 50 प्रतिशत मां डेटिंग ऐप्‍स के पक्ष में

बदलाव को स्‍वीकारती माताएं, 50 प्रतिशत मां डेटिंग ऐप्‍स के पक्ष में

लखनऊ। भारत में शादी की उम्र वाले अधिकांश वयस्‍क युवाओं ने शादी के लिए ‘रिश्‍ता देखने’ के अपनी मां के प्रस्‍तावों को लाखों बार ठुकरा दिया है। संभावित जीवनसाथियों की अनगिनत व्‍हाट्सऐप्‍प तस्‍वीरें और ‘मैचमेकर आंटी’ द्वारा कराई जाने वाली सरप्राइज मीटिंग्‍स आम बात है। हालांकि, देश भर के 5,000 नवयुवकों और नवयुवतियों पर कराये गये हाल के सर्वेक्षण से यह खुलासा हुआ कि मिलेनियल्‍स और जेनरेशन ज़ेड (जेन ज़ेड) दोनों की 50 प्रतिशत भारतीय माताएं अब बदलाव को स्‍वीकार कर रही हैं और डेटिंग ऐप्‍स के जरिए अपने बच्‍चों के जीवनसाथी की तलाश को लेकर सहज हैं।

भारत में डेटिंग से जुड़ी वर्तमान धारणाओं का पता लगाने हेतु ट्रुलीमैडली द्वारा कराये गये सर्वेक्षण से यह भी पता चला कि लखनऊ की 83 प्रतिशत माताएं अपने बच्‍चों के लव मैरिज की अधिकाधिक पक्षधर हो रही हैं। ट्रुलीमैडली के सह‍-संस्‍थापक और मुख्‍य कार्यकारी अधिकारी, स्‍नेहिल खानोर ने बताया, ”हम भारत में डेटिंग से जुड़ी धारणाओं और आशंकाओं को समझने के लिए निकले, लेकिन न केवल युवा पीढ़ी बल्कि उनके माता-पिता की भी पूरी तरह से बदली हुई मानसिकता ने चौंका दिया। मेरा मानना है कि इस विकास का एक बहुत कुछ हमारे समाज में महिलाओं के अधिकारों को समर्थन देने, लैंगिक भेदभाव को कम करने और लैंगिक रूढ़िवादिता के खिलाफ संवेदनशील बनाने के लिए लगातार प्रयासों से आया है।

इसके साथ ही, फिल्मों और सोशल मीडिया के माध्यम से कहीं अधिक मुक्त सामग्री ने माताओं को जीवन-साथी खोजने में अपने बच्चों का समर्थन करने के लिए अनुकूलता और विश्वास को प्राथमिकता देने में मदद की है। ये निष्कर्ष एक बात को स्पष्ट रूप से दर्शाते हैं कि जिन माताओं को अक्सर सदियों पुराने सामाजिक नियमों में जकड़ा हुआ माना जाता है, वे इसे बहुत दूर करने में कामयाब रही हैं। विवाह संबंधी निर्णय लेने की प्रक्रिया में माताओं की भूमिका को देखते हुए, यह मान लेना सुरक्षित है कि युवा पीढ़ी, जो विवाह की संस्था से वंचित प्रतीत होती है, आने वाले वर्षों में इसे और अधिक सक्रिय रूप से मानेगी। हम एक सुरक्षित, भरोसेमंद और आकर्षक डेटिंग प्लेटफॉर्म बनाकर इस यात्रा का हिस्सा बनने के लिए उत्साहित हैं जो निरंतर प्रौद्योगिकी नवाचार के माध्यम से गंभीर मानवीय संबंधों को सुगम और मजबूत करता है।”

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments