पंजाब के नए सरदार होंगे सुखजिंदर रंधावा, कुछ देर में होगी घोषणा कल ले सकते हैं शपथ

440
Sukhjinder Randhawa will be the new chieftain of Punjab, will be announced in a while, may take oath tomorrow
इस पार्टी के लोग उन्हें पिछले साढ़े चार साल से बर्दाश्त करते आ रहे हैं।

चंडीगढ़। पंजाब की राजनीति में शुरू हुआ उफान थमता नजर आ रहा है। पार्टी हाईकमान की पहल पर नए सीएम का लभगभ नाम तय माना जा रहा है। कांग्रेस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार नवजोत सिद्धू के करीबी विधायक सुखजिंदर रंधावा पंजाब के नए मुख्यमंत्री होंगे। कुछ ही देर में इसका औपचारिक घोषणा हो सकती है। सुखजिंदर रंधावा ने राज्यपाल से मिलने का समय मांगा है। कांग्रेस विधायक प्रीतम सिंह कोटकपूरा और दर्शन सिंह बराड़ ने भी इसकी पुष्टि की है। कांग्रेस आलाकमान पंजाब में वन प्लस 2 के फार्मूले का उपयोग करेगी। कांग्रेस विधायक ने जो जानकारी दी उसके अनुसार मुख्यमंत्री के साथ दो उपमुख्यमंत्री बनाए जाएंगे। इसमें एक दलित और दूसरा हिन्दू होगा। दलित कोटे से अरुणा चौधरी और हिन्दू चेहरे के लिए भारत भूषण आशु का नाम तय हो गया है। चंडीगढ़ में रंधावा के आवास के बाहर कार्यकर्ता जुटने लगे हैं। सूत्रों के अनुसार, रंधावा आज ही दावा पेश करेंगे। कल शपथ ग्रहण हो सकता है।

इसलिए जाखड़ का पता कटा

आपकों बता दें कि सुनील जाखड़ को मुख्यमंत्री बनाए जाने की खूब चर्चा हुई, लेकिन उनके नाम पर कुछ कांग्रेस विधायकों ने नाराजगी जताई इसके बाद अंबिका सोनी का नाम सामने आया। इसके बाद सोनी सीएम बनने से इन्कार कर दिया। हालांकि कांग्रेस के कुछ नेता सिख चेहरे को मुख्यमंत्री की कुर्सी दिए जाने की सिफारिश कर रहे थे। सूत्रों ने बताया कि नवजोत सिंह सिद्धू भी मुख्यमंत्री पद के लिए दौड़े लेकिन वे नहीं जीते। सिद्धू ने खुद हाईकमान से मुख्यमंत्री पद की मांग की थी। सिद्धू ने आलाकमान पर दबाव बनाने की भी कोशिश की थी लेकिन अंत में रंधावा का नाम फाइनल हो गया है।

वहीं सुखजिंदर रंधावा ने कहा कि सरकार चाहे 4 महीने की हो या 4 दिन की, काम करने वाले के लिए ये समय पर्याप्त है। उन्होंने कहा कि अगर किसी ने काम नहीं करना है तो उसके लिए 4 साल भी कम हैं। मुख्यमंत्री की शपथ को लेकर उन्होंने कहा इस पर अंतिम फैसला आलाकमान ही करेगा।

इससे पहले कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद रविवार को चंडीगढ़ में होने वाली कांग्रेस विधायक दल की बैठक स्थगित कर दी गई थी। कई दिग्गज कांग्रेसी नेताओं के नामों पर मंथन किया जा रहा था। इसमें अंबिका सोनी से भी सोनिया गांधी ने राय ली थी। हालांकि सोनी ने मुख्यमंत्री पद की पेशकश को ठुकरा दिया है। राहुल गांधी से मिलने पहुंचीं सोनी ने कहा कि पंजाब के मुख्यमंत्री का चेहरा सिख होना चाहिए।

कैप्टन पर भड़के सिद्धू के सलाहकार

पंजाब कांग्रेस प्रमुख नवजोत सिंह सिद्धू के सलाहकार मोहम्मद मुस्तफा ने कहा कि नवजोत सिद्धू देशद्रोही नहीं हैं। अगर अब के बाद कैप्टन अमरिंदर सिंह सिद्धू को देशद्रोही कहेंगे तो मैं पूरी किताब खोल दूंगा। कैप्टन के निशाने पर सिद्धू नहीं बल्कि गांधी परिवार है। मैं गांधी परिवार को निशाना नहीं बनने दूंगा। कैप्टन अमरिंदर सिंह पिछले पांच साल से पंजाब को बदनाम कर रहे हैं। इस पार्टी के लोग उन्हें पिछले साढ़े चार साल से बर्दाश्त करते आ रहे हैं। मैं पार्टी का नेता होता तो कैप्टन को 30 दिन में पार्टी से निकाल देता।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here