भूपेंद्र के भरोसे पटेलों को साधने, भाजपा ने गुजरात में चुना नया सीएम

214
To help Patels on Bhupendra's trust, BJP chose new CM in Gujarat
भाजपा पटेल समुदाय के वोट बैंक को बरकरार रखने के लिए किसी पटेल नेता को सीएम पद की जिम्मेदारी देना चाहती थी।

अहमदाबाद। यूपी चुनाव के बाद भाजपा के लिए गुजरात बचाना सबसे बड़ी चुनौती है।क्योंकि गुजरात को भाजपा का गढ़ माना जाता है, ऐसे में गुजरात ​सत्ता विरोधी लहर को रोकने के लिए भूपेद्र पटेल को गुजरात का नया मुख्यमंत्री चुना गया। भूपेंद्र का नाम रविवार को गांधीनगर में हुई भाजपा विधायक दल की बैठक में चुना गया। नए सीएम के बारे में केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बताया कि पटेल को राज्य का नया मुख्यमंत्री चुना गया है जो सोमवार को पद एवं गोपनीयता की शपथ लेंगे। आपकों बता दें, शनिवार को विजय रूपाणी ने अचानक सीएम पद से इस्तीफा देकर सबकों चौंका दिया था। मालूम हो कि राज्य में करीब सवा साल बाद विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में भाजपा पटेल समुदाय के वोट बैंक को बरकरार रखने के लिए किसी पटेल नेता को सीएम पद की जिम्मेदारी देना चाहती थी, इसलिए मजबूत पटेल नेता को राज्य का नया सीएम चुना गया।

2017 में दर्ज की थी सबसे बड़ी जीत

आपकों बता दें कि भूपेंद्र पटेल गुजरात के घाटलोदिया विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं।नव निर्वाचित सीएम भूपेंद्र पटेल ने 2017 में 117,000 वोटों के अंतर से घाटलोदिया सीट से जीत हासिल की थी। यह 2017 के गुजरात विस चुनाव में सबसे बड़ी जीत थी। गुजरात में दिसंबर 2022 में विधानसभा चुनाव होने हैं। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष सीआर पाटिल ने एक संवाददाता सम्मेलन में बताया कि गुजरात के नवनिर्वाचित मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल सोमवार दोपहर दो बजे शपथ लेंगे। कोई और मंत्री या उपमुख्यमंत्री पद का शपथग्रहण नहीं होगा।

भूपेंद्र पटेल ने सबकों चौंकाया

भूपेंद्र पटेल को नया सीएम चुने जाने के फैसले ने सभी को चौंका दिया है। क्योंकि उनका नाम कहीं चर्चा में नहीं था। जो नाम सीएम पद की रेस में थे उनमें उपमुख्यमंत्री नितिन पटेल, प्रदेश कृषिमंत्री आरसी फाल्दू और केंद्रीय मंत्रियों पुरुषोत्तम रुपाला, मनसुख मंडाविया आगे चल रहे थे। पीएम मोदी व अमित शाह की जोड़ी चौंकाने वाले फैसलों के लिए प्रसिद्ध है। उनके गृह राज्य के सीएम को लेकर भी ऐसा ही हुआ है। मालूम हो कि इससे पहले उत्तराखंड समेत कई राज्यों में सत्ता विरोधी लहर रोकने के लिए सीएम बदल चुकी है।

शनिवार को रूपाणी के इस्तीफे के बाद गुजरात के सभी भाजपा विधायकों को इसी दिन रात तक गांधीनगर पहुंचने को कहा गया था। रविवार सुबह विधायक दल की बैठक में नए नेता का चुनाव होना था। बतौर पर्यवेक्षक केंद्रीय मंत्री प्रहलाद जोशी और नरेंद्र सिंह तोमर गांधीनगर पहुंचे थे।

निवर्तमान सीएम विजय रूपाणी ने 7 अगस्त 2016 को गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में कार्यभार संभाला था। वह वर्तमान में गुजरात के राजकोट पश्चिम के विधायक हैं। 2017 के विधानसभा चुनाव में उनके नेतृत्व में भाजपा ने राज्य की 182 विधानसभा सीटों में से 99 पर जीत हासिल की, कांग्रेस को 77 सीटें मिली थी।

आनंदीबेन के कहने पर विधायक का टिकट मिला था

आनंदीबेन पटेल ने 2017 का विधानसभा चुनाव लड़ने से मना कर दिया था। इसके बाद उनके कहने पर ही घाटलोडिया सीट से पटेल को टिकट दिया गया था। 2017 में विधानसभा चुनाव के समय दायर हलफनामे के अनुसार, उनके पास 5.20 करोड़ रुपए की संपत्ति है। पटेल के पास एक आई-20 कार और एक एक्टिवा टू-व्हीलर भी है।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here