शिवसेना ने भी जावेद अख्तर के बयान को लेकर बोला हमला, माफी की मांग

126
Shiv Sena also attacked on Javed Akhtar's statement, demanded apology
अफगानिस्तान के हालात बेहद खराब और नारकीय हैं। वहां से लोग डर के मारे भाग रहे हैं और महिलाओं के अधिकारों को छीना जा रहा है।'

मुंबई। अपने बयान की वजह से आलोचना का सामना कर रहे संगीतकार जावेद अख्तर की मुश्किलें बढ़ती जा रही है। भाजपा के साथ ही शिवसेना भी जावेद अख्तर का विरोध कर रहीं है। आपकों बता दें कि जावेद ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तुलना तालिबान से की है। अख्तर के बयान पर शिवसेना ने भी हमला बोला है। बीजेपी का अकसर विरोध करने वाली शिवसेना का इस मुद्दे पर उसे साथ मिला है, जिसने जावेद अख्तर से अपनी टिप्पणी को लेकर माफी की मांग की है। शिवसेना ने संघ और वीएचपी की तुलना तालिबान से करने को हिंदू संस्कृति का अपमान करार दिया है। शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में कहा,’आज कल कुछ लोग तालिबान की किसी से भी तुलना करने लगे हैं। तालिबान समाज और मानवता के लिए बड़ा संकट है। चीन और पाकिस्तान जैसे देश उसका समर्थन कर रहे हैं, जो लोकतांत्रिक नहीं हैं। इन देशों में मानवाधिकार के लिए कोई जगह नहीं है।’

इसके आगे शिवसेना ने कहा, ‘हम एक लोकतांत्रिक देश हैं, जहां लोगों की व्यक्तिगत आजादी का सम्मान किया जाता है। लेकिन आरएसएस की तुलना तालिबान से करना गलत है। भारत हर तरह से दूसरे देशों के मुकाबले सहिष्णु है।’ सामना के संपादकीय लेख में शिवसेना ने कहा कि आरएसएस, वीएचपी जैसे संगठनों के लिए हिंदुत्व एक संस्कृति है। शिवसेना ने कहा, ‘आरएसएस और वीएचपी चाहते हैं कि हिंदुओं के अधिकारों का दमन न हो। इसके अलावा उन्होंने कभी महिलाओं के अधिकारों पर पाबंदियां नहीं लगाई हैं। अफगानिस्तान के हालात बेहद खराब और नारकीय हैं। वहां से लोग डर के मारे भाग रहे हैं और महिलाओं के अधिकारों को छीना जा रहा है।’

बता दें कि शिवसेना ने जावेद अख्तर को एक मुखर व्यक्ति बताया है, जो मुस्लिम समाज के अतिवादियों के खिलाफ भी बोलते रहे हैं। लेकिन ताालिबान से संघ की तुलना को स्वीकार नहीं किया जा सकता। हमारे देश में ज्यादातर लोग सेकुलर हैं और हम तालिबान की विचारधारा को स्वीकार नहीं करेंगे। हिंदुओं का बहुमत होने के बाद भी यह देश सेकुलर है।

तालिबान जैसे ही हैं RSS के समर्थक

बीते शुक्रवार को एनडीटीवी से बातचीत में जावेद अख्तर ने आरएसएस और वीएचपी की तुलना तालिबान से की थी। अख्तर ने कहा था, ‘जैसे तालिबान इस्लामिक स्टेट बनाना चाहता है। वैसे ही यहां भी कुछ लोग हैं, जो हिंदू राष्ट्र बनाना चाहते हैं। इन लोगों की मानसिकता एक ही है। भले ये हिंदू, मुस्लिम, ईसाई या यहूदी हों। तालिबान जो कर रहा है, वह बर्बर है, लेकिन आरएसएस, वीएचपी और बजरंग दल का समर्थन करने वाले लोग भी वैसे ही हैं।’

इसे भी पढ़ें…

शिक्षक दिवस पर शिक्षकों और जनप्रतिनिधियों का किया गया भव्य स्वागत

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here