नहीं थम रहा फिरोजाबाद में डेंगू का कहर,अब तक 79 मरीजों ने तोड़ा दम

466
Dengue havoc in Firozabad did not stop, so far 79 patients have died
पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें। सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल जरूर करें।

आगरा- फिरोजाबाद। यूपी के फिरोजाबाद समेत प्रदेश के कई जिलों में डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। फिरोजाबद में 4 और बच्चों की मौत के साथ मरने वालों का आंकड़ा 79 पर पहुंच गया। वहीं आगरा मेडिकल कॉलेज के डेंगू वार्ड में 26 संदिग्ध भर्ती हुए है। इनमे से पांच में डेंगू की पुष्टि हो गई है, वहीं अब तक 11 लोग ठीक होकर घर जा चुके है।

शुक्रवार को आगरा के एसएन मेडिकल कॉलेज के डेंगू वार्ड में भर्ती पांच मरीजों में डेंगू की पुष्टि हुई है। इसमें से एक आगरा का है। फिरोजाबाद के दो, शिकोबाहाद और मथुरा के एक-एक मरीज हैं। शुक्रवार को डेंगू के संदिग्ध 26 मरीज और भर्ती हुए हैं। इनके रक्त का नमूना लेकर जांच के लिए लैब भेजे गए हैं।

प्राचार्य डॉ. प्रशांत गुप्ता का कहना है कि डेंगू वार्ड में 16 और बाल रोग विभाग के डेंगू वार्ड में 10 संदिग्ध मरीज भर्ती हुए हैं। इनमें आठ संदिग्ध हैं और 13 मरीजों में डेंगू की आंशका है। इनकी प्रारंभिक जांच में एनए—1 की पुष्टि हुई है। शेष पुष्टि के लिए अंतिम जांच के लिए इनके रक्त का नमूना लेकर वायरोलॉजी लैब में भेजा गया है। गुरुवार को भी भर्ती संदिग्ध मरीजों में पांच में डेंगू मिला है। इसमें से एक युवक आगरा का है।

फिरोजाबाद में चार और हुई मौत

फिरोजाबाद में जिले में जानलेवा डेंगू और वायरल फीवर का कहर लगातार जारी है। शुक्रवार को चार और मरीजों की मौत हो गई, इनमें छह साल की इशिका, एक 17 वर्षीय किशोरी, एक 17 वर्षीय किशोर और एक महिला शामिल है। जिले में अब तक 79 लोग दम तोड़ चुके हैं। वहीं, मेडिकल कॉलेज में भर्ती दस से अधिक बच्चों की स्थिति भी गंभीर बनी हुई है।

सत्यनगर टापा निवासी छह वर्षीय खुशी निराला पुत्री कोमल सिंह ने की दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में शुक्रवार तड़के दम तोड़ दिया। खुशी को 25 अगस्त को बुखार आया था। जांच में डेंगू की पुष्टि हुई थी। तबियत में सुधार न होने पर सफदरगंज अस्पताल में वेंटीलेटर पर रखा गया था। खुशी के भाई हर्ष और बहन महक भी डेंगू पॉजिटिव होने के बाद आगरा के अस्पताल में भर्ती हैं।

ये सावधानी बरतें

– पानी को अधिक दिनों तक इकट्ठा नहीं होने देना चाहिए।
– बुखार होने पर डॉक्टर की सलाह के बिना कोई दवा न लें।
– सरकारी अस्पताल या सीएचसी, पीएचसी में रक्त की जांच कराएं।
– पूरे शरीर को ढकने वाले कपड़े पहनें। सोते समय मच्छरदानी का इस्तेमाल जरूर करें।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here