छोटे कविराज की बेमिसाल कविता,जो बता रहे मोबाइल की महिमा

312
Unmatched poem of Chhote Kaviraj, who is telling the glory of mobile
आज का दौर ऐसा आ गया है कि अब हर घर में पांच—पांच मोबाइल फोन हो गया है।

वायरल डेस्क। इन दिनों सोशल मीडिया पर एक छोटे बच्चे की मोबाइल पर एक बेहतरीन कविता वायरल हो रही है। इस क​विता में छोटा बच्चा चिठठी पत्री के जमाने से लेकर आज के मोबाइल के दौर की बात कर रहा है।

किस तरह पहले लोग चिठठी आने के बाद उसे पढ़वाने के लिए गांव के पढ़ें- लिखे लोगों को खोजते थे। आज का दौर ऐसा आ गया है कि अब हर घर में पांच-पांच मोबाइल फोन हो गया है। लोग घर के कमरों से बाहर निकलने की की जगह घर में ही एक दूसरे को फोन करके अपनी फरमाइश सुना रहे है। इसके अलावा मोबाइल की वजह से कैसे अपराध हो रहा है। मोबाइल से ही कैसे अपराधी पकड़े जा रहे है। वह सब कुछ इसे छोटे कविराज की ​कविता में समाहित है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here