राह होगी आसान: गोरखपुर से प्रयागराज के बीच जल्द चलेगी इंटरसिटी एक्सप्रेस

631
https://uphindinews.in/2021/08/18/deceitful-love-there-was-a-gap-between-living-together-and-dying-the-lover-ran-away-leaving-the-dead-body-of-the-girlfriend/
रेलवे प्रशासन गोरखपुर और संगम तट प्रयागराज के बीच इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की योजना तैयारी कर रहा है।

गोरखपुर। सीएम योगी ​के जिले गोरखपुर से संगमनगरी प्रयागराज के बीच जल्द ही इंटरसिटी एक्सप्रेस चलाने की तैयारी हैं। इस ट्रेन के चलने से गोरखपुर से प्रयागराज की यात्रा करने वालों को राह आसान हो जाएगी। अब इस रूट पर यात्रा नहीं करने वालों को परेशान नहीं होना पड़ेगा। कंफर्म टिकट तो मिलेगा ही यात्रा भी आसान हो जाएगी। आम जन की सुविधा के लिए पूर्वोत्तर रेलवे प्रशासन गोरखपुर और संगम तट प्रयागराज के बीच इंटरसिटी एक्सप्रेस ट्रेन चलाने की योजना तैयारी कर रहा है। संबंधित अधिकारियों के बीच तैयार प्रस्ताव पर मंथन जारी है।

वाराणसी से होकर चलेगी ट्रेन

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार रेलवे प्रशासन ट्रेन को संचालित करने से पहले स्पेशल ट्रेन के रूप में चलाकर परीक्षण करेगा। यह ट्रेन दशहरा के पहले गोरखपुर-देवरिया-भटनी- मऊ-वाराणसी रूट पर चलाई जा सकती है। प्रयोग सफल रहा तो दशहरा या दीपावली तक ट्रेन का संचालन बाबा काशी विश्वनाथ की धरती से होते हुए शुरू हो जाएगा। ट्रेन गोरखपुर से सुबह रवाना होकर दोपहर तक प्रयागराज पहुंचेगी। अपराह्न प्रयागराज से गोरखपुर के लिए वापस हो जाएगी। यात्रा में पांच से छह घंटे लगेंगे। ऐसे में गोरखपुर से प्रयागराज जाने वाले सैकड़ों लोगों की राह आसान हो जाएगी।

यह होगा श‍िड्यूल

लोग गोरखपुर से सुबह रवाना होकर दोपहर तक प्रयागराज पहुंच जाएंगे। प्रयागराज पहुंचे लोगों को दोपहर बाद सीधी ट्रेन मिल जाएगी। उन्हें दूसरी ट्रेनों का इंतजार नहीं करना पड़ेगा। दरअसल, उत्तर प्रदेश की महत्वपूर्ण नगरी होने के बाद भी गोरखपुर और प्रयागराज के बीच कोई ट्रेन नहीं चलती है। आपकों बता दें कि अभी प्रयागराज के रास्ते चौरीचौरा एक्सप्रेस चलती है लेकिन वह कानपुर अनवरगंज तक जाती है। एक तो उसका समय सही नहीं है, ऊपर से कंफर्म टिकट नहीं मिल पाता। ऐसे में संगम स्नान व हाईकोर्ट जाने वाले लोगों को मुश्किलों का सामना करना पड़ता है।

इसे भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here