अयोध्या को विश्वस्तरीय पर्यटन सिटी बनाने के लिए बुलेट ट्रेन से जोड़ने की तैयारी, इतना आएगा खर्च

441
Preparation to connect Ayodhya with bullet train to make it a world-class tourism city, will cost so much
नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन जल्दी ही विस्तृत रिपोर्ट रेल मंत्रालय को सौंप देगा। बैठक में कंसलटेंट टीम के साथ नगर निगम के कर्मचारी मौजूद रहे।

अयोध्या। मोदी सरकार भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या के विकास में कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहती है। शहर के विकास के साथ ही उसे बड़े शहरों से जोड़ने के लिए अब बेहतर हवाई मार्ग के साथ ही अब बुलेट ट्रेन से जोड़ने की योजना पर काम शुरू हो गया। इसका श्रीगणेश शुक्रवार को हो गया।

नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन के अधिकारियों ने शुक्रवार को अयोध्या आकर स्टेशन के लिए जमीन फाइनल करने के साथ नियत स्थान पर पत्थर भी लगा दिए। बुलेट ट्रेन का स्टेशन लखनऊ-गोरखपुर हाईवे बाईपास पर बन रहे मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीरामचंद्र एयरपोर्ट के ठीक सामने होगा। कॉरपोरेशन ने एयरपोर्ट अथॉरिटी से एनओसी के लिए आवेदन भी किया है।यह बुलेट ट्रेन 320 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से दौड़ेगी।

मां मैं तेरा बेटा रोहित मुझे नहीं पहचाना, यह मेरा दूसरा जन्म है, पढ़िए दिल को छू लेने वाली रोचक खबर

शुक्रवार को अयोध्या आए नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन के कार्यकारी निदेशक अनूप कुमार अग्रवाल ने बताया कि रामनगरी को सीधे तौर पर देश की राजधानी से जोड़े जाने की योजना है। इसके लिए एरियल लिडार सर्वे पहले ही हो चुका है। योजना को स्वीकृति भी मिल गई है। एनओसी मिलते ही नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन अपना काम शुरू करेगा।

941.5 किमी की नई पटरी बिछेगी

अयोध्या को दिल्ली से जोड़ने के लिए 941.5 किलोमीटर नई पटरी बिछाई जाएगी। यह दिल्ली से आगरा-लखनऊ-प्रयागराज होते हुए वाराणसी तक जाएगी। इस परियोजना में रामनगरी को शामिल करने के लिए लखनऊ से अयोध्या के लिए अलग से पटरी बिछाई जाएगी। लखनऊ-अयोध्या 130 किमी. लिंक सेवा के रूप में रहेगी। इसमें दिल्ली से वाराणसी व दिल्ली से अयोध्या के लिए दो अलग-अलग बुलेट ट्रेन चलेंगी।

200 लाख करोड़ की है योजना

वाराणसी व अयोध्या को हाई स्पीड रेल सेवा से जोड़ने के लिए 200 लाख करोड़ रुपये की आवश्यकता पड़ेगी। इसके साथ ही बड़े शहरों के ट्रैफिक को संभालने के लिए कुछ शहरों में भूमिगत लाइनें भी बिछाई जाएंगी।इस योजना को धरातल पर उतारने में सात से आठ साल लगेगा।

एयरपोर्ट के सामने बनेगा बुलेट ट्रेन का स्टेशन

राजधानी दिल्ली से सीधे रामनगरी के लिए 320 किमी. प्रति घंटा की रफ्तार से बुलेट ट्रेन चलेगी। रामनगरी को विश्वस्तरीय पर्यटन सिटी बनाने के क्रम में केंद्र व राज्य सरकार की ओर यह महत्वपूर्ण कदम भी सामने आ गया।

प्रयागराज में महिला सिपाही को दोस्त ने बनाया हवश का शिकार,फिर करने लगा ब्लैकमेल

इस विषय में आरपी सिंह सचिव विकास प्राधिकरण का कहना है कि अयोध्या से दिल्ली के लिए बुलेट ट्रेन चलना प्रस्तावित है। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन के कार्यकारी निदेशक अनूप कुमार अग्रवाल के साथ शुक्रवार को स्टेशन के स्थान को फाइनल किया गया है। अयोध्या में बुलेट ट्रेन का स्टेशन एयरपोर्ट के ठीक सामने बनेगा। इसके लिए एयरपोर्ट अथॉरिटी से एनओसी मांगी गई है।

अन्य परियोजनाओं की प्रगति को जाना

नेशनल हाई स्पीड रेल कॉरपोरेशन की टीम ने अयोध्या विजन 2047 के प्रस्तावित परियोजनाओं की जानकारी भी ली है। अयोध्या विकास प्राधिकरण की टीम ने प्रस्तावित रिंग रोड, हेरिटेज जोन, इकोलॉजिकली सेंसिटिव जोन, एयरपोर्ट सिटी कनेक्टिविटी डेवलपमेंट प्लान आदि से कॉरपोरेशन की टेक्निकल टीम को परिचित कराया।

कॉरपोरेशन की ओर से मांगी गई सूचना बिंदुवार संबंधित विभागों से प्राप्त कर उपलब्ध कराया जाएगा। प्राधिकरण की ओर से कहा गया कि अयोध्या मास्टर प्लान 2031 में बुलेट ट्रेन परियोजना को शामिल किया जाएगा। नेशनल हाई स्पीड रेल कॉर्पोरेशन जल्दी ही विस्तृत रिपोर्ट रेल मंत्रालय को सौंप देगा। बैठक में कंसलटेंट टीम के साथ नगर निगम के कर्मचारी मौजूद रहे।

इसें भी पढ़ें…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here