Thursday, September 29, 2022
Homeउत्तर प्रदेशछोटे किसानों का दर्द

छोटे किसानों का दर्द

चर्चित किसान नेता शिवाजी राय

शिवाजी राय, लखनऊ। प्रधान मंत्री ने 15 अगस्त 2021 को लाल किले से कहा कि छोटा किसान देश की शान है। छोटे किसान की बात करेंगे। देश में औसत खेती एक किसान के पास 5 एकड़ जिसमें पंजाब के किसान शामिल है ,उत्तर प्रदेश में पांच एकड़ के किसान एक गांव में मुश्किल से गिनती के 4 से 5 मिलेंगे, बाकी दस कट्ठा से एक एकड़,या दो एकड़ के अधिकतर किसान पाए जाते हैं,सबसे पहले दस कट्ठा के किसान की बात करूंगा,किसान एक कट्ठा में अच्छी लागत लगाने पर साथ किलो गेहूं पैदा करेगा,दस कट्ठा में छह कुंतल गेहूं पैदा हुआ जिसकी कीमत बिना एमएसपी के चौदह सौ रुपया कुंतल के हिसाब से आठ हजार चार सौ रुपया हुआ।

लगभग धान का भी आठ हजार चार सौ रुपया,कुल सोलह हजार आठ सौ रुपया,अब किसान अपनी खेती में,लागत के रूप में,ट्रैक्टर की जुताई,खाद,पानी ,दवा,मजदूरी,बीज, और अन्य लागत के अलावा,इंफ्रास्ट्रक्चर पर ब्याज लेकर पूरा जोड़ देंगे तो कुल लागत पच्चास प्रतिशत से ज्यादा लगेगा, यदि मौसम ठीक रहा तो ,फसल समय से घर आ सकती है,अब हम किसान का खर्च देखते हैं,यदि किसान मशक्कत करके आठ हजार बचा लेता है ,उससे क्या क्या करेगा,पहले खाना बनाने के लिए गैस लेते हैं।

गैस का एक सिलेंडर नौ सौ रुपये में मिलता, है, नौ सौ रुपये के हिसाब से नौ सिलेंडर मिलेगा,बारह महीने में बारह सिलेंडर खर्च होता है,छोटे किसान की अधिकतम आय में केवल गैस के इंतजाम के लिए तीन महीने के लिए तीन सिलेंडर का पैसा तलाशना पड़ेगा और मोदी ने क्या दिया, डीजल डेढा महंगा हुआ,गैस पांच सौ महंगा हु,आ,अनाज का रेट घटा, खेती के दवा का दाम बढ़ा,बिजली का दाम बढ़ा,दाल व सरसो के तेल का दाम बढ़ा,बच्चे की फीस बढ़ी, यानी महंगाई जोरो पर,अब हम आगे नही बढ़ेंगे,सिर्फ गैस के बढ़े दाम व मोदी किसान को क्या देते है इसपर बात करेंगे, मोदी के आने के बाद गैस पर बढ़े दाम एक सिलेंडर पर पांच सौ रुपया।

इस हिसाब से बारह सिलेंडर पर छह हजार रुपया,मोदी देते हैं सम्मान निधि साल में छह हजार रुपया,अब गैस का दाम व सम्मान निघि ,छोटे किसान हो या बड़ा सबके लिए बराबर, अब आगे छोटे किसान हो या बड़ा, दाल, डीजल, सरसो का तेल, बिजली,बच्चों की फीस, मोबाइल चार्ज,किराया,ये सारे डेढ़ गुना से दो गुना महंगा, मोदी ने किसानों से अनाज लेकर गोदाम में भर लिया, फूड सिक्योरिटी कानून में पहले से ही लोगों को सस्ता अनाज मिलता था, अब लोगो को 95 रुपये का अनाज महीने में देते हैं।

एक किलो सरसो का तेल का दाम अदानी को सौ रुपया बढ़ाने को मिल गया , किसान छोटा हो या बड़ा सौ रुपया सरसों का तेल महंगा खरीदा, मतलब महीने में कम से कम तीन किलो तेल यानी तीन सौ रुपये तेल में दिया पंचानवे रुपया पाया, अभी अन्य महंगे समान का लेख जोखा आपके जिम्मे है। ये लाल किले से छोटा किसान देश की शान, मोदी का किसान प्रेम। आगे अभी एक एकड़, दो एकड़ तीन एकड़ वाले किसानों ,के बारे में लिखेंगे,और मैं खाये अघाये लोगों को कहूंगा कि किसानों का मजाक उड़ाना बन्द कर दें। ये ही खाय अघाय लोग जब मजदूर पैदल चल रहे थे तो मजाक उड़ा रहे थे, ईश्वर वादियों को तो अपने भगवान से जरूर डरना चाहिए, नहीं डरते है तो ईश्वर को मानने का ढोंग करते है जैसे मोदी ढ़ोंग करते हैं।

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments