जश्न ए आजादी: योगी बोले-पहले लोग यूपी आने से डरते थे, आज निवेशकों की निगाहे यूपी की ओर

201
Jashn e Azadi: Yogi said - earlier people were afraid to come to UP, today the eyes of investors are towards UP
ध्वजारोहण के बाद योगी ने कहा कि यह हम सबका सौभाग्य है कि देश की स्वाधीनता के अमृत महोत्सव वर्ष का हम सभी को साक्षी बनने का गौरव मिल रहा है।

लखनऊ। आज पूरा देश आजादी का जश्न मना रहा है। दिल्ली के लाल किले से लेकर लखनऊ विधानसभा तक हर तरफ देश की आजादी के रंग बिखरे है। देश की आजादी की 75वीं वर्षगांठ पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 5वीं बार विधानसभा में तिरंगा फहराया। मुख्यमंत्री ने प्रदेश केा संबाोधित करते हुए कहा कि पहले यूपी में केवल अपराध था। हर कोई यहां आने से डरता था। निवेशक यूपी के बारे में सोचते भी नहीं थे। आज दुनिया का हर निवेशक हमारी ओर देख रहा है।

योगी ने प्रदेश में रोजगार को लेकर भी अपनी बात रखी। बोले- पहले सरकारी नौकरी में जातिवाद, क्षेत्रवाद देखा जाता था। खूब भ्रष्टाचार होता था। बिना घूस दिए किसी को नौकरी नहीं मिलती थी। आज पारदर्शी तरीके से हर किसी को नौकरी मिल रही है। पिछले 4 साल में 4.50 लाख युवाओं को रोजगार मिला। 40 लाख लोगों को रहने के लिए घर मिला।

ध्वजारोहण के बाद योगी ने कहा कि यह हम सबका सौभाग्य है कि देश की स्वाधीनता के अमृत महोत्सव वर्ष का हम सभी को साक्षी बनने का गौरव मिल रहा है। देश की स्वतंत्रता में उत्तर प्रदेश की सबसे अहम भूमिका रही है। 1947 में पराधीनता के खिलाफ एक लंबी लड़ाई के बाद देश अनगिनत बलिदानों के कारण स्वतंत्र हुआ था।

उन्होंने कहा कि 1857 से शुरू हुई स्वाधीनता की उस सामूहिक लड़ाई के अवसर पर इस देश ने विदेशी हुकूमत को अपनी ताकत का एहसास कराया था। झांसी में रानी लक्ष्मी बाई के नेतृत्व में तो बलिया में मंगल पांडेय के नेतृत्व में। 1942 में ही बलिया ने स्वाधीनता देख ली थी। तब मेरठ ने भी जश्ने आजादी की तैयारी कर ली थी। तय कर लिया था कि कैसे दिल्ली में तिरंगा फहराना है।

इसे भी पढ़ें…

अपने हौसलों से हर मुश्किल का सीना चीरते हुए आजादी की मंजिल की तरफ बढ़ते ही चले गए…

Utsav-e-Azadi: “उत्सव ए आजादी” कवि सम्मलेन में अमर शहीदों को किया गया नमन

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here