यूं ही नहीं डूबी कांग्रेस की नइया

238
Congress's new did not sink just like this
क्या अल्पसंख्यकों को नाराज़ करने का लक्ष्य पूरा कर रहे कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन !

क्या अल्पसंख्यकों को नाराज़ करने का लक्ष्य पूरा कर रहे कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन !

लखनऊ-नवेद शिकोह। इस्लामी कैलेन्डर के साल के पहले दिन से ग़म का सिलसिला शुरू होता है, इसलिए मुसलमानों का हर वर्ग इस्लामी नववर्ष की ख़ुशी नहीं बल्कि ग़म मनाता है। वजह ये है कि पहली मोहर्रम को सुन्नी हज़रात के ख़लीफा हज़रत उमर फारूख़ की शहादत (पुण्यतिथि) का दिन है। शिया और सुन्नी हज़रात मोहर्रम को ग़म का महीना मानते हैं। मुसलमानों के पैग़म्बर हजरत मोहम्मद के नाती हज़रत इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों की शहादत के शोक का सिलसिला आज से शुरू हो जाता है।

पहली मोहर्रम से सुन्नी, शिया और कुछ हिन्दू भाई ताज़िया रखते हैं। मानवता को बचाने के लिए सबकुछ क़ुरबान कर देने वाले इमाम हुसैन की याद में आज से अज़ादारी/ताज़िएदारी (ग़म के दिनों) का सिलसिला शुरू होता है। और मुसलमानों यानी अल्पसंख्यकों के ग़म के इस ग़मग़ीन दिन पर उ.प्र.कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन शाहनवाज आलम साहब ने मुसलमानों को मुबारकबाद दी है।

मोहर्रम के ग़म और हज़रत उमर की शहादत के दिन मुबारकबाद देकर शिया-सुन्नी और समस्त अल्पसंख्यकों को नाराज़ करने वाले कांग्रेस अल्पसंख्यक विभाग के चेयरमैन की ये पोस्ट देखकर मुझे रजनीगंधा का विज्ञापन याद आ गया-

  • “यूं हीं नहीं मैं, मैं बन जाता हूं,
    यूं ही नहीं मैं रजनीगंधा बन जाता हूं।”
    मेहनत करनी पड़ती है।
    वैसे ही जैसे कांग्रेस की नइया डुबोने में काफी मेहनत की जा रही है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here