हिमाचल प्रदेश में पहाड़ों से गिरे पत्थर और चट्टानों की चपेट में आने से 13 की मौत, 40 से ज्यादा लापता

355
13 killed, more than 40 missing after being hit by rocks and rocks falling from mountains in Himachal Pradesh
किन्नौर जिले के नेशनल हाइवे के करीब 100 मीटर हिस्से बड़ी मात्रा में मलबा और चट्टानें गिर गईं।

भावानगर। शांत पड़े पहाड़ी वादियों में सैलानियों की बढ़ती आमद से पहाड़ों में हलचल बढ़ती जा रही है, अभी 16 दिन पहले पहाड़ की चट्टानों धंसकने से कई लोगों की मौत हुई थी। फिर बुधवार को पहाड़ से चट्टानें मौत बनकर बरसीं और 13 लोगों को मौत की नींद सुला दी। अभी भी चालीस से ज्यादा लोग लापता है। सेना और आईटीबीपी के जवान बुधवार देर रात तक राहत एवं बचाव कार्य में जुटे रहे है। बारिश और पहाड़ से गिर रहे चट्टानों और मलबे की वजह से बचाव कार्य में परेशानी आ रही है। वहीं बारिश भी बचाव कार्य में रोड़ा खड़ा कर रही है।

आपकों बता दें कि बुधवार सुबह करीब 11:56 बजे भावानगर से 10 किलोमीटर दूर नेशनल हाईवे-5 पर निगुलसरी के पास यात्रियों से भरी एचआरटीसी बस (एचपी25ए-3048), टिपर, दो कारों, सूमो और अखबार की गाड़ी पर चट्टानें गिर गईं। इस हादसे में कु 13 लोगों की मौत हो गई है। 40 से ज्यादा लोगों के लापता है, जबकि 14 घायलों को मलबे से सुरक्षित निकाल लिया गया है।

किन्नौर जिले के नेशनल हाइवे के करीब 100 मीटर हिस्से बड़ी मात्रा में मलबा और चट्टानें गिर गईं। रात 9:00 बजे तक चले रेस्क्यू ऑपरेशन में मलबे को हटाकर टिपर, दो कारों और एक सूमो को निकाल लिया गया है। हालांकि, टीमें अभी बस को नहीं खोज पाई हैं। दिन में ड्रोन की मदद से भी बस को खोजा गया लेकिन कामयाबी नहीं मिली। रात को एनएच से करीब 400 मीटर नीचे उतरकर टीमें सतलुज नदी के पास भी पहुंचीं पर बस का कोई सुराग नहीं मिला। सेना, आईटीबीपी की तीन बटालियनों के 200 जवान, एनडीआरएफ और पुलिस की टीमों ने सुबह दोबारा रेस्क्यू शुरू करे दिया है।

घायलों का चल रहा इलाज

बस के ड्राइवर-कंडक्टर समेत 13 घायलों को एंबुलेंस से सीएचसी भावानगर पहुंचाया गया है, जहां इलाज जा जारी है। दिन में राहत-बचाव कार्य तेजी से चलता रहा, लेकिन पहाड़ से पत्थर गिरने से रेस्क्यू अभियान में परेशानी आती रही। बारिश ने भी बचाव कार्य में बाधा आई। बताया जा रहा है कि बस मूरंग से रिकांगपिओ पहुंची, जहां सवारियां बैठाने के बाद हरिद्वार के लिए रवाना हुई थी। बस में करीब 22 सवारियां बैठी थीं। अभी तक चार पुरुषों, पांच महिलाओं और एक बच्ची का शव बरामद किया गया है। एक शव बाद में भी मिला। सभी मृतक हिमाचल के निवासी थे।

पीएम मोदी- ने जयराम से फोन पर ली जानकारी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह ने हादसे पर दुख जताया है। इसके साथ ही मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर को फोन कर राहत और बचाव कार्य की जानकारी ली है। पीएम मोदी ने हरसंभव मदद का भरोसा दिया है। शाह ने भी आईटीबीपी के डीजी से बात कर मदद पहुंचाने के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें… 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here