हृदयविदारक: पति-पत्नी की गला रेतकर हत्या,मां के बगल में सो रहे 10 माह के बच्चे को जिंदा छोड़ा

477
A girl madly in love with a friend killed her with a shovel, sat near the dead body till the police arrived
यहां एक ब्यूटी पार्लर संचालिका कंचन पटेल की की हत्या उसकी सहेली राखी ने कर दी।

प्रयागराज। संगम नगरी प्रयागराज में मंगलवार देर रात बड़ी वारदात हुई। यहां दोहरे मे हत्याकांड से दहशत फैल गई। राइस मिल मालिक के भाई देवनारायण और उनकी पत्नी रंजना की धारदार हथियार से गला रेतकर नृशंस हत्या कर दी गई। मां के बगल में सोए 10 माह के बच्चे को कातिलों ने छोड़ दिया। बुधवार अल सुबह मासूम की रोने की आवाज सुनकर जब लोगों की नींद खुली तो इस घटना की जानकारी हुई। स्थानीय लोगों सूचना पर पुलिस के साथ फॉरेंसिक टीम और डॉग स्क्वायड पहुंचर घटनास्थल का मुआयना किया। पुलिस ने शवों को कब्जे में लेकर पंचनामा के बाद पीएम के लिए भेज दिया गया है। पुलिस ने बताया कि हत्यारों ने घर का सारा सामान बिखेर दिया था। पुलिस का दावा है कि प्रथमदृष्टया हत्या के पीछे लूटपाट लग रही है।

तीन भाईयों में सबसे छोटा था मृतक

यह दिल दहलाने वाली वारदात प्रयागराज के सोरांव थाना क्षेत्र के चांदपुर सराय ग्राम सभा के मनी का पूरा मजरा की है। यहां के निवासी देव नारायण पटेल (30) पुत्र त्रिवेणी प्रसाद पटेल तीन भाइयों में छोटा था। उसके बड़े भाई हरि गोविंद पटेल राइस मिल चलाते हैं। दूसरे नंबर का भाई राम नारायण अपना अलग काम करते हैं। चार साल पहले देव नारायण की शादी जिले के ही घोसियान गांव निवासी रंजना पटेल से हुई थी। 3 साल पहले उसने पुराना मकान छोड़कर घर के पास ही दूसरा मकान बनवा लिया था। उसी में वह अपनी पत्नी रंजना और 10 माह के बेटे दिव्यांश के साथ रह रहा था। देव नारायण पहले बड़े भाई हरगोविंद की राइस मिल में ही हाथ बटाता था। 25 दिन पहले ही देव नारायण ने घर पर अपना अलग से सहज जन सेवा केंद्र खोला था।

बेटे को लेकर बरामदे में सोया था दंपति

घरवालों ने बताया कि मंगलवार देर रात रोज की तरह देव नारायण और उसकी पत्नी रंजना के साथ घर के बरामदे में सोए हुए थे। देव नारायण तख्ते पर सो रहा था, जबकि रंजना बेटे को लेकर चारपाई में सो रही थी। कातिलों ने पति-पत्नी की हत्या कर दी। मगर उनके 10 माह के मासूम बेटे दिव्यांश को छोड़ दिया। बुधवार सुबह मासूम की रोने की आवाज सुनकर पड़ोस में रहने वाले भाई राम नारायण के घर के लोग मौके पर पहुंचे। बिस्तर पर दंपति का खून से लथपथ देख उनकी चीख निकल गई। घर का मेन दरवाजा खुला था। अलमारी, बक्से के लाकर खुले हुए थे। सामान बिखरा पड़ा था।

इसे भी पढ़ें…

  1. ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत की स्थिति अस्वीकार्य: किसान संसद
  2. प्रदेश में महंगाई, बेरोजगारी और भ्रष्टाचार अपने चरम पर :उदयनाथ सिंह
  3. अधिवक्ता संघ बीकापुर के चुनाव में मैनुद्दीन अध्यक्ष और श्याम नारायण पांडे मंत्री बनें

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here