करंट लगने से तड़प रहे पिता को बचाने दौड़े दो बेटों की भी बिजली लगने से मौत

422
Two sons who ran to save the father suffering due to electrocution also died due to lightning
जब भी कोई बिजली के संपर्क में आए तो उसे सूखी लकड़ी के सहारे बचाना चाहिए।

मेरठ। उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले में सोमवार को हुए हादसे ने सबकों झकझोर कर रख ​दिया। यहां अलसुबह एक युवक घर का मुख्य द्वार खोलने के लिए उठा, लेकिन उसे नहीं पता था कि घर के गेट पर बिजली का तार गिरा हुआ है। जैसे ही युवक ने गेट को छूआ वैसे ही उसे बिजली का जोरदार झटका लग गया। पिता को चीखते चिलते सुन दोनों बेटे बचाने दौर पड़े, लेकिन बच्चों को भी इसका अंदाजा नहीं था कि गेट पर बिजली का तार छू रहा है। इस तरह पिता को बचाने के ​फेर में दोनों बेटों की भी मौत हो गई। जब तीन लोग करंट की चपेट में आ गए तो घर में रोना पीटना मच गया तो घर के बाहर लोगों की भीड़ जमा हो गई।

इसके बाद लोगों ने किसी फोन करके किसी तरह बिजली की सप्लाई बंद करवाई। जब बिजली की सप्लाई बंद हुई तो घर वाले तीनों को लेकर एक प्राइवेट अस्पताल भागे। जहां डॉक्टर ने देखते ही तीनों लोगों को मृत घोषित कर दिया। तीनप लोगों की मौत से घर में कोहराम मच गया। वहीं गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। यह दर्दनाक हादसा मेरठ थाना परीक्षितगढ़ में हुआ। बताया जा रहा है कि दो पशुओं की भी करंट से मौत हो गई है।

दरअसल ऐचीं गांव में एक व्यक्ति अपने घर का मेन गेट खोलने के लिए निकला, तभी मेन लाइन टूट गई और सीधे गेट के पास आकर गिर गई, इसके चलते गेट में करंट उतर आया और करंट लगने से ग्रामीण चपेट में आ गया। उसे करंट से तड़पड़ता देखकर बच्चों से भी नहीं रहा गया तो उन्होंने पिता को बचाने का प्रयास किया और खुद भी करंट की चपेट में आ गए, इसके चलते तीनों गंभीर रूप से झुलस गए। एक ही परिवार में तीन लोगों की करंट से मौत के बाद कोहराम मच गया, वहीं ग्रामीण भी सन्न रहे गए। जिसने भी सुना वह सन्न रह गया। इसकी सूचना पुलिस को भी दी गई, पुलिस मौके पर पहुंची और तीनों के शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।वहीं घर में मातम पसरा हुआ है।

इसे भी पढ़ें…

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here