Wednesday, October 5, 2022
Homeउत्तर प्रदेशलखनऊआज भी देश की लगभग 70 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी:...

आज भी देश की लगभग 70 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी: डॉक्टर अपेक्षा

लखनऊ। पुलिस लाइन लखनऊ में महिलाओं के स्वास्थ्य को लेकर एक कार्याशाला का आयोजन किया गया। कार्यशाला को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने कहा कि खून की कमी होने पर मानसिक अशांति और इम्युनिटी सिस्टम कमजोर हो जाता है। इसलिए अच्छे खानपान से अपने को मजबूत रखे। डॉ. सीमा मोदी ने कहा कि एनीमिक होना कोई बीमारी नही है लेकिन समय से जागरूक नही हुए तो बीमारी का कारण जरूर बन सकता है।आज के समय मे लगभग हर वर्ग के लोगों को मानसिक परेशानी है, शारीरिक व मानसिक रूप से अपने को मजबूत कर अपनी इम्युनिटी सिस्टम को बढ़ाना होगा।

कार्यक्रम को संबोधित करते हुए एके शुक्ला ने कहा कि जागरूकता के अभाव में लड़कियां और महिलाओं में कुपोषण की समस्या पाई जाती है, चाहे उसका परिवार आर्थिक रूप से मजबूत हो या नहीं हों, लेकिन खुदा का ख्याल नहीं रखने से महिलाएं बीमारियों का शिकार हो जाती है। स्त्री व प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉक्टर अपेक्षा विश्नोई ने कहा कि आज भी पूरे देश मे लगभग 70 प्रतिशत महिलाओं में खून की कमी पाई जाती है और पूरे विश्व मे 40 प्रतिशत। एनीमिक होने पर रोग प्रतिशोधक क्षमता कम हो जाती है। इसलिए खाने में फल और हरी सब्जियां बहुत जरूरी है। जंक फूड से दूर रहें। पेट मे कीड़े होने से खून नही बन पाता है ।

इसलिए हर 6 महीने में कीड़े की दवा लेते रहना चाहिए। महिलाओं को एनीमिया से बचने के लिए सबसे पहले खुद को महत्व देना सीखना होगा। माहवारी के दौरान जल्दी-जल्दी या अधिक रक्तस्राव का होना एनीमिया को निमंत्रण देना है अत: ऐसी किसी भी समस्या का तुरंत इलाज कराए। इसके साथ ही अनचाहा गर्भ रुकने पर महिलाएं अक्सर गर्भपात कराने को मजबूर होती है, जिसमें भी बहुत रक्तस्राव होता है। इसलिए सुरक्षित व नियमित गर्भनिरोधक का प्रयोग करें जिससे ऐसी किसी अनचाही, अपात स्थिति से बचा जा सके ।

महावारी सम्बंधित कई महिलाओं के प्रश्नों के उत्तर दिए गए। आरआई ने इस कार्यक्रम की प्रशंसा करते हुए कहा कि इस तरह का कार्यक्रम मौजूदा सामाजिक परिवेश महिलाओं के बेहतर जीवन के लिए बहुत आवश्यक होती है। एनीमिया तथा उससे संबंधित जानकारी उनके बेहतर स्वस्थ शरीर तथा उनके परिवार को एक नई दिशा एवं ऊर्जा दे सकती है। मानसिक स्वास्थ्य अच्छा रखे इसकी जानकारी रखें।

डॉ. सीमा मोदी ने मानसिक स्वास्थ्य मजबूत रखने के लिए आर्ट ऑफ लिविंग के तहत ध्यान करवाया। कार्यशाला में अभिनेत्री रंगमंच कलाकार डॉ. सीमा मोदी मौजूद रहीं। कार्यक्रम के दौरान जिसमे पुलिस की ट्रैनिंग की महिलाएं शामिल रहीं। डॉ. एके शुक्ला, डॉ अपेक्षा विश्नोई, स्त्री एवम प्रसूति रोग विशेषज्ञ ,दुर्गेश पांडेय, श्री प्रकाश उपाध्या , सौम्या मोदी आरआई पुलिस लाइन आशुतोष समेत अन्य लोग भी शामिल हुए।

Google search engine
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments