जानिए क्यों आस्ट्रेलिया के सांसद ने यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को मांगा उधार

412
Know why Australian MP asked for loan to UP CM Yogi Adityanath
आस्ट्रेलिया के सांसद क्रेग कैली सीएम योगी की जमकर प्रशंसा की ।

लखनऊ। कोरोना महामारी से निपटने में जिस तरह यूपी सरकार ने काम किया किया उसकी प्रशंसा देश ही नहीं विदेश में हो रही है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक सीएम योगी के प्रसंशक आस्ट्रेलिया के सांसद क्रेग कैली है। क्रेग कैली ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को कुछ दिन के लिए उधार मांगा है, जिससे कि उनके देश में कोरोना वायरस संक्रमण काल में दवा की कमी दूर हो सके। वहां पर आइवरमेक्टिन की बेहद कमी हो गई है। क्रेग कैली ने एक ट्वीट किया है, जिसके जवाब में सीएम ऑफिस ने भी ट्वीट कर उनकी मेजबानी की पेशकश की है।

आस्ट्रेलिया के सांसद क्रेग कैली ने कोरोना वायरस संक्रमण काल में उत्तर प्रदेश में अभूतपूर्व काम करने वाले योगी आदित्यनाथ की सरकार को को जमकर सराहा है। इसमें भी उनके दवाओं को लेकर प्रबंधन की विशेष प्रशंसा की है। इतना ही नहीं उन्होंने तो मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को कुछ दिनों के लिए उधार भी मांगा है। कैली का मानना है कि अगर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ हमको कुछ दिन के लिए उधार में मिल जाएं तो हमारे देश में इवरमेक्टिन की कमी का उचित प्रबंधन हो जाएगा। शीघ्र ही इसकी कमी से हमको बेहद निराशाजनक दौर से उबरने का मौका मिला मिलेगा।

सीएम आफिस ने यह दिया जवाब

आस्ट्रेलियाई सांसद के ट्वीट के बाद सीएम ऑफिस से भी ट्वीट किया गया है कि हम आपकी बेहतर मेजबानी के साथ ही हम आपके साथ कोविड प्रबंधन के उन अनुभवों को बांटने को आतुर हैं जो कि कोरोना संक्रमण काल में हमने पीएम नरेंद्र मोदी के कुशल नेतृतव में मिला। इसी कारण हम लोग वैश्विक महामारी में दवा की कमी को दूर कर सके। पीएम मोदी के मार्गदर्शन में हमें कोरोन महामारी से लडऩे में मदद मिली। आइए हम सभी कोरोना वायरस संक्रमण के खिलाफ इस वैश्विक लड़ाई में सहयोग करें।

आस्ट्रेलिया के सांसद ने यह लिखा

सीएम योगी की प्रसंशा में आस्ट्रेलिया के सासंद क्रेग कैली ने कहा कि बीते 30 दिनों में भारत की आबादी का 17 प्रतिशत हिस्सा अपने पास रखने वाले उत्तर प्रदेश में के साथ उत्तर प्रदेश में सिर्फ 2.5 प्रतिशत मौत तथा एक प्रतिशत नए संक्रमण के मामले आए हैं। वहीं देश की नौ प्रतिशत आबादी वाले महाराष्ट्र में 18 प्रतिशत नए मामले तथा 50 प्रतिशत मौत के मामले सामने आ रहे हैं। भारत में महाराष्ट्र भले ही दवा निर्माण में चैम्पियन है, लेकिन उत्तर प्रदेश तो आइवरमेक्टिन के उपयोग में माहिर है।

इसे भी पढ़ें…

  1. यूपी ब्लॉक प्रमुख के चुनाव में हिंसा करने वालों पर चलने लगी कानून की लाठी, 900 हुए नामजद
  2. हरलीन (Harleen Deol) के कैच के मुरीद हुए सचिन तेंदुलकर, बताया ‘कैच ऑफ दी ईयर’
  3. हे राम यह क्या हुआ, परिवार के नौ लोगों की मौत से दहल उठा आगरा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here